Search This Blog

Monday, July 22, 2013

गुरूवर


  • गुरूवर मेरे तुम्हें प्रणाम ,

               भर दो मुझ में ज्ञान अपार !
       पत्थर से पारस बन जाऊँ,
              सर्व समाज के काम मैं आँऊ !


  • गुरूवर ऐसी राह दिखाओ ,

            जन जन में जा अलख जगाँऊ !
      राह से कभी भटक ना जाँऊ ,
           ज्ञान ज्योति घर घर फैलाँऊ !


  • गुरूवर मुझको ऐसा वर दो ,

           कृपा से अपनी मुझको भर दो !
      द्वैष अहम् से दूर निकलकर ,
           जीवन में कुछ नेक करूं !


  • गुरूवर कुछ ऐसा हो जायें ,

             सच मेरा सपना हो जायें !
      सबको समान समझना आये ,
             तन मन कोमल बनता जायें !
      अंधियारे को मिटा सकूँ ,
             जन हित में कल्याण करूं !